Friday, 20 October 2017

4 Reason To Invest In Bharat 22 ETF



Seeing the past return offered by the government-backed CPSE ETF, the new Bharat 22 ETF shall also provide reasonable returns for investors. It is all the more a bet in India's growth story with 22 strong companies being a part of it.

1. Entities part of the ETF to gain significantly from the several reforms: The 22 entities included in it are from CPSE, PSBs and Specified Undertaking of the Unit Trust of India (Suuti). Various reforms such as digital drive, financial inclusion, GST, and DBT or other make in India initiatives are likely to benefit these companies and hence their valuations are likely to see an uptrend directly impacting investors positively.

2. The low cost as low expense ratio for Bharat 22 ETF: Bharat ETF can be tapped in at a low cost and hence the mutual fund basket can be dug into with it. Also, there are high chances that during the NFO for the ETF, the discounts are provided.

3. Returns higher than the benchmark index: ETF trend taking into considering CPSE ETF has been higher than the benchmark Sensex as also the dividend yield which remained a way higher.

4. A good diversification option: 92% of the Bharat 22 ETF is comprised of large-cap stocks while the 8% is held by high quality mid and cap stocks. And the weight for each of the stock is capped at 15% while the sectoral limit is set at 20%. So, with bets across sectors investor returns shall see long-term return prospects.

Wednesday, 4 October 2017

Crude oil dips on rising OPEC production



Crude oil futures closed lower in the domestic market on Tuesday as traders weighed prospects for global supplies on the back of a rise in OPEC production last month and ahead of data that are expected to show a second-straight weekly decline in U.S. crude inventories.

A recent survey of analysts conducted by Reuters pegged the Organization of the Petroleum Exporting Countries’ September crude output at 32.86 million barrels a day, up from the previous month and above its production cap.

At the MCX, crude oil futures for October 2017 contract closed at Rs 3311 per barrel, down by 1.84 %, after opening at Rs 3354, against a previous close of Rs 3373. It touched the intra-day low of Rs 3295.

Friday, 29 September 2017

Crude oil dips on profit taking, technical trading: 29 Sept 2017


Crude oil futures closed lower in the domestic market on Thursday on profit-taking as well as technical trading.

Oil had settled higher on Wednesday after the U.S. Energy Information Administration reported an unexpected 1.8 million barrel decline in crude inventories in the week ended Sept. 22, with the draw attributed in part to a surge in exports. Hurricane Harvey disrupted refining operations in the Gulf Coast, which resulted in notable oil supply builds because of lower refinery input demand, and sizable gasoline draws due to lower refinery runs.

At the MCX, crude oil futures for October 2017 contract closed at Rs 3376 per barrel, down by 1.17 percent, after opening at Rs 3424, against a previous close of Rs 3416. It touched the intra-day low of Rs 3360.

Wednesday, 27 September 2017

Crude oil dips on likely rise in crude inventory : 27 Sept

Crude Oil Inventories time 8:00 PM / 27 Sept 2017



Crude oil futures closed lower in the domestic market on Tuesday on expectations U.S. data will show a fourth consecutive weekly rise in domestic crude inventories.

Analysts surveyed expect the EIA to report a fourth-straight weekly rise—of 1.3 million barrels for crude inventories, while gasoline stockpiles are seen down by 100,000 barrels and distillates down 2.1 million barrels.

An increase in crude supplies would follow three-consecutive weekly increases reported by the EIA, as Hurricane Harvey disrupted U.S. refinery operations, reducing demand for crude oil.

At the MCX, crude oil futures for October 2017 contract closed at Rs 3396 per barrel, down by 0.29 percent, after opening at Rs 3424, against a previous close of Rs 3406. It touched the intra-day low of Rs 3373.

Tuesday, 26 September 2017

Crude oil rises as OPEC output deal extension likely


Crude oil futures closed higher in the domestic market on Monday as data showed major producers’ strong commitment to their agreement to cut output and as talk of a likely extension of the deal grows.

Oil prices have been going higher in recent weeks due, first and foremost, to evidence that OPEC and Russia’s efforts to reduce the global supply glut was showing positive results, and that the group was somewhat surprisingly sticking to their agreement. Talks that the production cuts could be extended has been providing further confidence to oil investors that the rally could be sustained.

At the MCX, crude oil futures for October 2017 contract closed at Rs 3410 per barrel, up by 3.74 per cent, after opening at Rs 3284, against a previous close of Rs 3287. It touched the intra-day high of Rs 3412.

Saturday, 23 September 2017

कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 55.51 डॉलर प्रति बैरल


भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत गुरुवार को 55.51 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल दर्ज की गई। यह बुधवार को दर्ज कीमत 54.93 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल से अधिक रही। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के अधीन पेट्रोलियम नियोजन एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ (पीपीएसी) ने यह जानकारी दी।
रुपये के संदर्भ में भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की कीमत गुरुवार को बढ़कर 3581.88 रुपये प्रति बैरल हो गई, जबकि बुधवार को यह 3535.42 रुपये प्रति बैरल थी। रुपया गुरुवार को कमजोर होकर 64.53 रुपये प्रति अमेरिकी डॉलर के स्तर पर बंद हुआ, जबकि बुधवार को को यह 64.36 रुपये प्रति अमेरिकी डॉलर था।

फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) से जुड़े 5 जरूरी सवालों के जवाब



आज के दौर में लोग शेयर बाजार, म्युचुअल फंड, बॉन्ड्स या फिर गोल्ड में निवेश करते हैं इसके बावजूद देश के लोगों में फिक्स्ड डिपॉजिट के प्रति भरोसा कम नहीं हुआ है। आज भी देश में सबसे सुरक्षित निवेश फिक्स्ड डिपॉजिट को ही माना जाता है। कम समयावधि, बेहतर रिटर्न और अच्छी ब्याज दर के कारण फिक्स्ड डिपॉजिट लोगों के बीच लोकप्रिय है।

हालांकि फिक्स्ड डिपॉजिट में म्युचुअल फंड जितना अच्छा रिटर्न नहीं मिलता है फिर भी एफडी सबसे सुरक्षित विकल्प माना जाता है। नई पीढ़ी में एफडी को लेकर तमाम शंकाएं हैं, मसलन एफडी की सुविधा सिर्फ बैंक में ही है, क्या एफडी के ब्याज पर टैक्स लगता है आदि। तो इन सभी शंकाओं के समाधान की जानकारी आगे दी गई है जिसमें हर बात को विस्तार से समझाया गया है।

एफडी की सुविधा

एफडी को लेकर एक बड़ा संशय ये है कि ये सुविधा सिर्फ राष्ट्रीयकृत बैंक, प्राइवेट सेक्टर के बैंक या फिर एनबीएफसी यानि नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनिया ही जारी कर सकती हैं। पर ऐसा नहीं है, एफडी की सुविधा आपको पोस्ट ऑफिस में भी मिल जाएगी। इसके अलावा आप कॉर्पोरेट एफडी ले सकते हैं जिसमें डिपॉजिट पर सबसे ज्यादा ब्याज मिलता है। हां यहां एक बात का ध्यान जरूर रखें कि कॉर्पोरेट एफडी को ज्यादा सुरक्षित नहीं माना जाता है। ऐसे में सुरक्षित एफडी कराने के लिए बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस ज्यादा बेहतर हैं।




क्या ब्याज पर टैक्स लगता है ?

जी हां, एफडी पर मिले ब्याज पर कर देना होता है लेकिन अगर यह आपकी कुल आय में इनकम फ्रॉम अदर सोर्स के अंतर्गत आती है। पर एफडी ब्याज कैलकुलेटर के जरिए हमें पता चलता है कि किसी विशेष स्कीम पर आप कितना ब्याज कमा सकते हैं। यदि आपके पास किसी भी वित्तीय वर्ष में ब्याज की रकम 10,000 रुपए से अधिक हो जाती है तो इस राशि पर 10 फीसदी टीडीएस कटता है, हालांकि आयकर का मार्जिनल रेट 20 से 30 फीसदी के बीच रहता है लेकिन अतिरिक्त टैक्स लाइबिलटी होने पर रिटर्न फाइल करते समय टैक्स का भुगतान करना पड़ता है।

फिक्स्ड डिपॉजिट पर टैक्स में छूट मिलती है ?
फिक्स्ड डिपॉजिट में किए गए निवेश पर आयकर अधिनियम 80सी के तहत ब्याज पर छूट मिलती है लेकिन यह छूट सिर्फ उन फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलती है जो पांच साल की समयावधि के लिए खुलवाए गए हैं। अब अगर आपको फिक्स्ड डिपॉजिट के ब्याज पर छूट का लाभ उठाना है तो आपको ऐसी स्कीम का चयन करना चाहिए जो टैक्स बचाने का विकल्प दे सके।




क्या एफडी में मिलता है ज्यादा रिटर्न ?
आम तौर पर देखा गया है कि लोगों में यह धारणा है कि एएडी में ज्यादा ब्याज मिलता है इसलिए रिटर्न भी ज्यादा ही मिलेगा, एक हद तो ये सही है लेकिन यह केवल उसी स्थिति में है जब एफडी अपने पूरे समय के लिए जमा रहे उसे बीच में ना तुड़वाया जाए। कई बार एफडी में एक साल या 18 महीने में जमा रकम का कुछ फीसदी हिस्सा (यह बैंकों की स्कीम पर निर्भर है) निकालने की छूट दी गई होती है, ऐसी स्थिति में एफडी तोड़ने पर पूरा लाभ नहीं मिल पाता है।




क्या पहले निकाल सकते हैं एफडी का पैसा ?
आम तौर पर लोगों का मत है कि एफडी को समय से पहले ही निकाल लेने पर कम रिटर्न मिलता है। ऐसा सही भी है लेकिन कुछ वित्तीय संस्थान होते हैं जहां आप पार्शियल विड्रॉल कर सकते हैं। इस विड्रॉल पर कोई पेनल्टी भी नहीं लगती है।



source: goodreturns.in
Dear Friends,
Sorry to say that you are suffered for the chart initially available, now they are restored and you can very well see the chart on money99.org similar to money99.in.
And all of you are intimated that we are going to develop more and more in money99.org to facilitate your dreamy demands.

Latest updates tips : Follow

© Copyright 2015 Money99. Designed by Parag Patil